कदर एक दिन हमारी भी ज़माना करेगा

बस ये एक तरफ़ा मुहब्बत की बुरी आदत तो छूट जाने दो