फासला रख के आखिर
क्या हासिल कर लिया तुमने ?
रहते तो आज भी
तुम मेरे दिल में हो ...